Monthly Archives: December 2015

क्या किया जाए

इल्म की पर्दानशीनी क्या किया जाए
अॊर दुनिया है मशीनी क्या किया जाए

दिन जहाँ पर ख्वाब के हुक्के भरे जाएं
ऒर रातें हों जमीनी क्या किया जाए

उम्र भर धोता रहा मैं दाग अपने जिस्म के
मन चदरियां हाय! झीनी क्या किया जाए

ज़ाहिदों की इंकलाबी सोच के परचम तले
अनपढ़ो की नुक्ताचीनी क्या किया जाए

फिर वही किस्सा कि मांझी से मुसाफिर ने
धार में पतवार छीनी क्या किया जाए

चार दिन हल्ला मचा था निर्भया के नाम पर
ऒर फिर बस तमाशबीनी क्या किया जाए

निर्भया के बाद भी

इन्कलाबी तख़्तियों का क्या किया जाए
सिर उठाती मुठ्ठियों का क्या किया जाए

जब जजों के फैसलों में भी निराशा साफ हो
गोलघर की चुप्पियों का क्या किया जाए

वे अखाड़े में रहें तो ताल भी ठोकें मगर
सिर्फ नूरा- कुश्तियों का क्या किया जाए

हां, यहाँ अपराधियों के भी कई अधिकार हैं
किन्तु बेबस बेटियों का क्या किया जाए

बात अपने पर गयी तो चुटकियों में फैसले
पर रिहा उन कैदियों का क्या किया जाए

निर्भया के बाद भी यदि हस्तिनापुर मॊन है
फिर सियासी पारियों का क्या किया जाए