सच कहता हूँ

सच कहता हूँ
पर कहने से डरता भी हूँ।

कुछ दीवारें चुपके–चुपके
अनुमानों से छुपते–छुपते
कानाफूसी खेल न खेलें
हाँ, यह सोच सिहरता भी हूँ।
सच कहता हूँ पर कहने से डरता भी हूँ।

सत्ता रोज बदलती भाषा
गढ़ती नई–नई परिभाषा
राजनीति के गलियारों में
गिरता और संभलता भी हूँ।
सच कहता हूँ पर कहने से डरता भी हूँ.।

कुछ मायावी रिश्ते–नाते
मन में आस जगाते जाते
अहसासों के महाभँवर में
फँसता और निकलता भी हूँ।
सच कहता हूँ पर कहने से डरता भी हूँ.।

अरमानो की गहमागहमी
मर्यादाएं सहमी सहमी
मध्यस्थों की दोहरी बातें
सुनकर जरा ठहरता भी हूं।
सच कहता हूँ पर कहने से डरता भी हूँ.।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *